गुरुवार, अक्तूबर 19, 2017

Story of a casual shaver

मैंने जब स्वयं शेव बनानी शुरू की तो Topaz ब्लेड का पैकिट 5 रूपये का मिलता था।
1 पैकेट प्रयोग करने के बाद ताव में आकर उस समय का सबसे बढ़िया अर्थात सबसे महंगा शायद 25 रुपए कीमत वाला 7'O'clock का पैकेट फादर-फंड से खरीद लाया। फिर आया शेव करने का मजा। बात-बेबात दोस्तों को सुनाने में भी मजा आता था, "Topaz यूज करता है? मैं तो 7'O'clock के अलावा कोई यूज ही नहीं करता।" 
लेकिन कुछ महीने बाद खुद कमाने लगा, तो लगा कि ये फिजूलखर्ची है। मैं फिर Topaz खरीद लाया। शेव बनाते समय मेरे गालों की वो हालत हुई कि बताऊंगा नहीं वरना उदाहरण दिया तो मित्रगण पोस्ट में राजनीति ढूंढेंगे। रेज़र फेरते ही लगता था जैसे कच्चा आलू छिल रहा हो। 7 ओ क्लॉक का ब्लेड 4 शेव कर देता था, टोपेज के ब्लेड से पहले 2 शेव करने की कोशिश की फिर 1 शेव तक भी आया लेकिन परिणाम वही। पता चला कि 7ओ क्लॉक जिस सड़क पर चल जाए उसे एक्सप्रेस हाईवे बना देता है, फिर Topaz उस पे नहीं चलने पाता। शेव बहुत हार्ड हो जाती है। अंग्रेजी फिल्मों में गोरों को गाल चिकनाते देखकर बैटरी से चलने वाली वाली शेविंग मशीन भी मंगवाई लेकिन वो भी कामयाब नहीं हुई।
सतबजिया ने फिर शेविंग किट पर कब्जा जमा लिया।
पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से ज्यादा मुझे ब्लेड की कीमत बढ़ने का डर सताता था। 35 या 37 रुपए तक का पैकेट तो मैंने खरीदा था, सोचता था कि इतने में तो 1 लीटर दूध आ जाता। बहुत टेंशन होती थी कि ऐसे ही शेव हार्ड होती गई तो कहीं ऐसा न हो कि कल को गालों पर तलवार ही फेरनी पड़े। फिर संयोग से मुझे 2 तलवार वाला ब्लेड ही मिल गया, डरते डरते ही सही लेकिन प्रयोग शुरू किया तो अच्छे नतीजे आये। अब ये नहीं पता कि टेक्नोलॉजी अच्छी आ गई या कुछ और बात है लेकिन कामचलाऊ शेव बन ही जाती है वो भी सस्ती कीमत में।
शेव बनाना वैसे अब भी मजबूरी वाला काम लगता है। नौकरी करने में एक बहुत बड़ी उलझन इस निगोड़ी शेविंग समस्या का भी है लेकिन यह कारण लिखकर रिटायरमेंट माँगी तो पता नहीं रिटायरमेंट मिलेगी भी या नहीं, 'सत्यं वद' सिर्फ कहने की बात रह गई है। बोत खराब जमाना आ गया है।
जब पंजाब में था तो ये बड़ी मौज थी, शेव करनी हो तो की और न की तो महीना ऐसे ही खींच दिया।
कभी मेरी सरकार आई तो पुरुषों के शेव बनाने पर पाबंदी लगवा दूंगा। इस मामले में स्त्रियाँ भाग्यशाली हैं।
छुट्टी हो तो शेव बनाने में मैं यथासम्भव टालू हूँ. दो दिन से सोचता हूँ कि अभी शेविंग करता हूँ लेकिन अब भी शेविंग का इतिहास लिखना शेविंग से ज्यादा आसान लगा।
अब तो कल ही शेव बनाऊंगा। वैसे भी हमने कौन सा कल ब्यूटी पार्लर जाना है जो भारी भीड़ मिलेगी 
मितरो, जय श्री राम..
#स्वयं_शेवक

सोमवार, नवंबर 14, 2016

नाम खुमारी

आज फिर से फ़िल्म 'नमक हराम' की बात से शुरू करते हैं । 'नमकहराम' फिल्म में विक्की सेठ(अमिताभ) के सोनू(राजेश) से यह पूछने पर कि ये लोग कई साल से मेरे नौकर हैं और तुम्हें यहाँ आए अभी कुछ दिन हुए हैं लेकिन ये तुम्हें मुझसे ज्यादा क्यों चाहते हैं, सोनू पलटकर विक्की से उसके माली/ड्राईवर का नाम पूछता है जो विक्की नहीं बता पाता। सोनू कहता है कि आज इन लोगों को उनके नाम से पुकारना और देखना वो कैसे तुम्हारे लिए जान देने को तैयार हो जाएंगे। वो तो खैर फ़िल्म थी, कुछ ज्यादा ही हो गया लेकिन बात में दम है। व्यवहार में मैंने भी यह देखा है, यह बात प्रभावी है। खासतौर पर तब, जब सामने वाला आपको अपने से कहीं बहुत ऊंचा मानता हो।
एक कहावत भी है कि सबसे कर्णप्रिय आवाज 'अपना नाम' है।
कहने को शेक्सपियर ने भी कहा बताते हैं कि नाम में कुछ नहीं रखा है लेकिन उसके सामने कोई यही बात किसी और के नाम से क्वोट कर देता तो पक्की बात है शेकूआ उससे गुत्थमगुत्था हो जाता
अक्सर फेसबुक पर भी देखा है कि कोई कहानी या कविता किसी अखबार या कवि सम्मेलन में छपती या पढी जाती है तो बाद में रौलारप्पा हो जाता है। खैर, यह भी सम्वाद का एक तरीका ही है। प्रसिद्धि के लिए तो लोग कपड़े तक उतार लेते हैं और कई अपने कपड़े फाड़कर भी नाम जरूर कमाना चाहते हैं। सोशल मीडिया पर भी बहुत उदाहरण मिल जाते हैं, लोग बहुत कुछ सिद्ध कर लेते हैं।
मैं अक्सर बहक जाता हूँ। सोचता कुछ हूँ, लिखना कुछ और चाहता हूँ और लिख कुछ और जाता हूँ।
सिखों के प्रथम गुरु श्री नानक देव जी की आज जयन्ती है। उन्हें प्रणाम करने लगा तो उनका कहा 'नाम खुमारी नानका, चढी रहे दिन रात' याद आ गया मन में सवाल ये आयाकि गुरु नानक देव जी ने जब यह उचारा तो वो किस नाम की खुमारी की बात कर रहे थे?
गुरु नानक देवजी द्वारा की गई यात्रायें 'चार उदासियों'  के नाम से जानी जाती हैं। ऐसी ही एक यात्रा के दौरान वो सिद्धों के इलाके(आज तारीख में तराई का इलाका) में पहुँचे। अपने वर्चस्व वाले इलाके में एक नये साधु का आना सुनकर उन्होंने एक बर्तन भेजा, जो लबालब दूध से भरा हुआ था।  लाने वाले ने वो बर्तन पेश किया और चुपचाप खड़ा हो गया, गुरू साहब ने उस बर्तन में गुलाब के फ़ूल की पंखुडियाँ डाल दीं जो दूध के ऊपर तैरने लगीं। इन यात्राओं में बाला और मरदाना उनके सहायक के रूप में शामिल थे। ये माजरा उन्हें समझ नहीं आया तो फ़िर गुरू नानक देव जी ने उन्हें समझाया कि सिद्धों ने उस दूध भरे बर्तन के माध्यम से यह संदेश भेजा था कि यहाँ पहले से ही साधुओं की बहुतायत है, और गुंजाईश नहीं है। गुरूजी ने गुलाब की पंखुडि़यों के माध्यम से यह संदेश दिया कि  इन पंखडि़यों की तरह दूध को बिना गिराये अपनी खुशबू उसमें शामिल हो जायेगी, अत: निश्चिंत रहा जाये। उसके बाद दोनों पक्षों में प्रश्नोत्तर भी हुये। 
 सिद्धों ने एक प्रश्न किया था कि आप ध्यान के लिये किन वस्तुओं का प्रयोग करते हैं? 
उत्तर देते हुये गुरू नानक देव जी ने कहा था, "नाम खुमारी नानका चढ़ी रहे दिन रात"  कि प्रभु नाम सिमरन की ये खुमारी दूसरे नशों की तरह नहीं कि घड़ी दो घड़ी के बाद उतर जाये। ये तो वो नशा है जो एक बार चढ़ जाये तो दिन रात का साथी बन जाता है।
अपना या अपनों का ही नहीं, सबका सुख यानी 'सरबत दा भला' माँगता ये गीत सुनिए - 


शुक्रवार, अक्तूबर 21, 2016

हैलो हैलो...

"हैलो"
"हाँ जी, कूण बोल रहे हो?"
"अबे बावले, मैं हूँ ....। बोल के बात थी?"
"नमस्ते ... साब, मैं नूं कहूँ था जी अक आज मैं आऊँ के न आऊँ। मैंने सोची फोन पे.."
"लै भाई, मैं किस तरयां बता दूं कि तू आ या न आ?"
"जी मेरा मतबल था कि बेरा तो होना चाहिए न? म्हारे अफसर हो आप।"
"भाई, तू देख ये तो।"
"न जी, वो बात न है। देखणा तो मन्ने ही है पर फोन करना तो मेरा बने ही था न कि आज आऊं के न आऊं?"
"अरे बावले, फेर वाई बात। मैं कह दूं कि आ जा और तैने न आना हो तो? और मैं कहूँ कि न आ और तैने आना हो, फेर? तूए देख ये।"
"आप समझो तो हो न बात को, शुरू हो जाओ हो। भड़क जाओ हो तावले सी।"
"लै! मैं के न्यूए भड़क गया? बाउली बात पूछेगा तो तेरे गीत गाऊंगा?"
"मन्ने के पूछ ली आपते? मैं तो नूं कह रा था कि आज मेरा ड्यूटी पे आण का पक्का न है। आ भी सकूँ हूँ और न भी आ सकूँ हूँ। कैश में किसी को बैठा दियो आप, कदे मेरीए बाट देखे जाओ।"
"सच में बावली ... है, शुरुए में न कह देता ये बात?"
"और के कहण खातर फोन करया था? न्यौता देऊँ था के? यही तो कहण लग रया हूँ सुरु से कि आज आऊँ के न आऊँ"
"अच्छा छोड़ बाउली बात, नूं बता के आएगा ड्यूटी पे अक नहीं?"
"ह्ह्ह्ह, जी आ भी सकूँ हूँ और हो सके न भी आऊँ।"
.................
मोबाइल पीढी को इस लैण्डलाईनिया वार्ता को समझना शायद पकाऊ काम लगे, पर अपनी ऐसी कई यादें लैंडलाइन से जुडी हैं।
एक पुराना पोलिटिकली करेक्ट वार्तालाप अचानक याद आ गया।

शनिवार, अक्तूबर 15, 2016

सबको मालूम है....

ब्रांच में FD receipts खत्म होने वाली थीं। यह   ’ सिक्योरिटी स्टेशनरी’ श्रेणी में आती हैं। शाखायें अपने स्तर पर प्रिंट नहीं करवा सकतीं बल्कि बैंक स्वयं इनकी प्रिंटिंग करवाकर शाखाओं को उनकी आवश्यकतानुसार  जारी करता है ताकि इनका दुरुपयोग न हो सके। मैंने स्टाफ़ में पूछा कि बताओ भाई कौन लेने जाना चाहेगा? (दिल्ली के ऑफ़िस से लानी थी, आम तौर पर देखा है कि स्टाफ़ में टीए बिल वगैरह का उत्साह रहता है। ’अंधे की मक्खी राम उड़ाये’ चरितार्थ हो रही थी, एक भी स्टाफ़ वैसा नहीं निकला जैसा लोग बताते थे। एक सुर में सबने कहा कि आप का घर दिल्ली में है, कल आराम से वहाँ से FD कलेक्ट करिये। लखनवी नवाबों वाली बात हो गई, मैं उन्हें कहूँ कि आपस में सलाह करके कोई एक चला जाये और वो सब मुझे कहें कि रोज भागमभाग करते हो तो एक दिन ऑन ड्यूटी आराम करिये। पूरे दिन के आराम के बदले बड़े ऑफ़िस में जाकर सबको नमस्ते करना अपने को सस्ता सौदा नहीं लगा। कोई निर्णय नहीं हो पाया।
थोड़ी देर में फ़रीदाबाद ब्रांच के हमारे चीफ़ मैनेजर साहब का किसी काम से फ़ोन आया। चौधरी साहब आयु, पद दोनों पैमानों पर अपने से बहुत सीनियर बैठते थे और सबसे बड़ी बात उनका आपसी व्यवहार, अपने से छोटों को भी हमेशा सम्मान देकर बुलाते। एक और मजे की आदत, मुझे हमेशा ’चौधरी साहब’ या ’छोटे भाई’ कहकर बुलाते थे और ”चौधरी’ बुलाने पर मेरे प्रतिवाद करने पर कहते, "बता मोहे, कहाँ लिखा है कि चौधरी सिर्फ़ हम गुज्जर या जाट ही होंगे?"  बातों-बातों में  मैंने पूछा कि इमरजेंसी स्टॉक में से कुछ FD दे सकेंगे क्या?
"अरे ले लो चौधरी साब, हैं तो हमारे पास भी कम ही लेकिन आपका काम तो चल ही जायेगा। मैं अगले  हफ़्ते किसी को भेजकर अपने लिये और मंगा लूँगा।" चलो जी, समस्या सुलझ गई। शाम को प्रतिदिन वाले समय से एक घंटा पहले निकलकर मैं चौधरी साहब की ब्रांच में पहुँच गया। हमेशा की तरह बहुत प्यार से गले मिले, सफ़ाई कर्मचारी को आवाज लगाई, "ओ जिज्जी, दो गिलास पानी ला ठंडा। और जूस बोल दे, छोटा भाई आया है बहुत दिन के बाद।" पानी आ गया, जूस के लिए जिज्जी को मैं मना करता रहा लेकिन चीफ़ साहब की बात का मोल ज्यादा होना ही था। साधारण बातचीत होती रही, जूस आ गया और पी लिया। अब काम की बात करनी थी क्योंकि बैंक बंद होने का समय भी हो रहा था। चौधरी साहब घंटी बजाने लगे, उनकी शाखा के FD इंचार्ज का नाम लेकर बोले, "फ़लाने को कह दूँ आपको FD recipts दे देग।" मैंने डिमांड लेटर पर     उनकी  स्वीकृति लेते हुए कहा, "जी,  बुलाने की क्या जरुरत है? एक बार बात सुनने आयेगा, फ़िर सामान देने आयेगा। मैं ही जाकर ले लेता हूँ।" और फ़लाने साहब के पास पहुँच गया। फ़लाने साहब से मुलाकात पहली थी लेकिन फ़ोन पर अच्छा परिचय हो चुका था, किसी पेंशनर द्वारा उनकी शिकायत होने पर चौधरी साहब ने मेरे ही कान पकड़कर मामला खत्म करवाया था तो फ़ोन पर ये भी कई बार आभार प्रकट कर चुके थे। मैंने जाकर अपना परिचय दिया और चौधरी साहब द्वारा FD receipts जारी करने की परमीशन वाला लेटर उन्हें दिया। एक और ग्राहक भी उनकी टेबल पर शायद मेरे आगे आगे पहुँचा ही था। लेटर हाथ में लेकर इंचार्ज साहब कहने लगे, "FD receipt तो मेरे पास भी खत्म ही होने वाली हैं। वेरी सॉरी, मेरी भी खत्म हो ही गई थीं। मैं उस ब्रांच में गया तो उन्होंने नहीं दी फ़िर दूसरी ब्रांच में गया तो बहुत रिक्वेस्ट करने के बाद थोड़ी सी दी हैं। ये है, वो है, ऐसा है, वैसा है। सॉरी सर।" 
"ओके, कोई बात नहीं।" मैं मुड़ा तो उन्होंने आवाज लगाकर रोका।
"एक मिनट, सर"
"हाँ, जी?"
"एक बात पूछूँ आपसे?"
"पूछो न"
कुछ रुककर कहने लगा, "आप एक गलती करके आये हो। मैं सही कह रहा हूँ न?"
अब मेरा माथा थोड़ा सा ठनकने लगा, "होश संभालने के बाद मैंने गलतियाँ ही की हैं। आप किस गलती की पूछ रहे हो, सीधे से पूछोगे तो हाँ या न बताऊँ, मुझसे गोलमोल बातें ज्यादा देर होती नहीं।"
"आप सीधे अपनी ब्रांच से आ रहे हैं, आपने ड्रिंक कर रखी है न?"
".... जी, मैंने किसी जन्म में इतनी पी थी कि इस जन्म में मरते दम तक भी न पियूँगा तो काम चल जायेगा।"
"ये बता दो सरजी, मैं ठीक कह रहा था न?"
कोई अच्छा सा जवाब ही दिया होगा मैंने भी, क्योंकि वो मुझे अब याद नहीं।    मैं चौधरी साहब के केबिन में आ बैठा। चौधरी साहब फ़ाईलों में उलझे थे, मुझे देखा तो पूछा, "मिल गईं चौधरी साब?"
मैंने हँसते हुए कहा, "FD तो नहीं मिलीं, खत्म हो रही बताते हैं लेकिन एक सर्टिफ़िकेट जरूर मिल गया।"
"कैसा सर्टिफ़िकेट? क्या बात हुई?"
मैं अपनी दिल्ली की पुरानी ब्रांच में फ़ोन कर रहा था। मित्र अभी बैंक में ही था, उसे बोला कि थोड़ी सी FD चाहियें, निकलवाकर रख लेना। मैं अभी और लेट हो जाऊंगा, आकर साईन कर दूँगा।
चौधरी साहब फ़ाईल साईड में रखकर बैठे थे। "क्या बात हुई, वहाँ क्यों तंग कर रहे हो उन्हें?" १ घंटा और बैठना पड़ेगा उन लोगों को भी।"
मैंने बताया कि एक घंटा नहीं, कम से कम दो घंटे और बैठना पड़ेगा मेरे दोस्तों को। मेरे काम से जा रहा हूँ तो भी बिना कुछ खिलाये-पिलाये नहीं जाने देंगे :)
अब चौधरी साहब मेरे पीछे पड़ गये, "कौन से सर्टिफ़िकेट की बात कर रहे थे। मुझे बात बताओ पूरी।"  
बतानी पड़ी, ये भी बताया कि हो सकता है जिज्जी जो जूस लाई थी उसीमें कुछ मिला हो :) 
सुनते ही चौधरी साहब ने घंटी बजाई, "इसकी तो @^#%$   ^& @&^,  हिम्मत कैसे हो गई उसकी?" 
जिज्जी उन फ़लाने साहब को बुलाने गई और फ़ौरन ही लौट भी आई। "साहब, उनसे गलती हो गई थी। आपके आने के बाद वो बहुत पछता रहे थे। मैं वहीं सफ़ाई कर रही थी उस समय जब आपसे उनकी बात हो रही थी। वो एक और कस्टमर और आप दोनों एक साथ ही उनकी टेबल पर पहुँचे थे, उसने पी रखी थी।" फ़िर चीफ़ साहब से बोली, "साहब जी, डाँटियो मत ज्यादा। अभी महीने भर की छुट्टी से आया है बीमारी के बाद, हार्ट का पेशेंट वैसे है। सच में उसे गलती लग गई, आपके बुलाने से पहले ही बहुत परेशान हो रहा था।"
तब तक वो खुद भी आ गया और कुछ कहे जाने से पहले ही हाथ जोड़कर खड़ा हो गया। बहुत शर्मिंदा होते हुए वही सब बताने लगा, "उस कस्टमर के कारण मुझसे बेवकूफ़ी हो गई। मैंने उसे भगा दिया, ऐसा हुआ वैसा हुआ।"
चौधरी साहब को मैंने ही रिक्वेस्ट करके शांत किया, "जाने दो चौधरी साहब, इनकी गलती न है। मेरी शक्ल ही ऐसी है।"
---------------------------
फ़ेसबुक पर एक प्यारा सा शरारती मित्र बना। कुछ दिन पहले कभी मिलने की बात हो रही थी तो बोला, "सर, एक बार आपके साथ बैठकर पीनी है।" 
क्या कहता मैं? 
यही कहा, "ठीक है भाई, मेरे साथ बैठके पी लियो।" 
गलती तेरी न है, मेरी शक्ल ही ऐसी है:)